मीराबाई के बारे में आलोचकों के मत

·  मीरा ने लिखा है-लोक लाज कुल कानि जगत की, दइ बहाय जस पानी.अपने घर का पर्दा कर ले, मैं अबला बौरानी..·       . मैनेजर पाण्डेय लिखते हैं- “प्रेम ही मीरा के सामाजिक संघर्ष का साधन है और साध्य भी.”·     कबीर ने कहा था कि ‘प्रेम का घर खाला का घर नहीं है’. लेकिन मीरा की प्रेम साधना कबीर के प्रेम …

मीराबाई के बारे में आलोचकों के मत Read More »

सूरदास का ‘भ्रमरगीत’

सूरदास का ‘भ्रमरगीत’ और उसके पद (पद सं. 21-70) अनेक आलोचकों ने भ्रमरगीत प्रसंग को ‘सूरसागर’ का सर्वोत्कृष्ट अंश बताया है. आचार्य रामचंद्र शुक्ल ने सूरसागर से ‘भ्रमरगीत’ के प्रसंगों को ढूंढ़कर निकाला और उसे संपादित कर ‘भ्रमरगीत सार’ नाम से पाठक समुदाय के सामने रखा. इस संपादित पुस्तक के आरंभ में ही शुक्ल जी …

सूरदास का ‘भ्रमरगीत’ Read More »

‘रेवा तट’

‘पृथ्वीराज रासो’ के ‘रेवा तट’ सर्ग का कथानक: ‘रेवा तट’ पृथ्वीराज रासो का 27वां सर्ग है। इसमें पृथ्वीराज चौहान और मोहम्मद गोरी की लड़ाई का वर्णन है। गोरी को जब पता चलता है कि चौहान रेवा तट पर शिकार करने गया है तभी वह अपनी सेना के साथ चौहान पर आक्रमण कर देता है। किंतु …

‘रेवा तट’ Read More »

रेवा तट

‘पृथ्वीराज रासो’ के ‘रेवा तट’ सर्ग का कथानक: ‘रेवा तट’ पृथ्वीराज रासो का 27वां सर्ग है। इसमें पृथ्वीराज चौहान और मोहम्मद गोरी की लड़ाई का वर्णन है। गोरी को जब पता चलता है कि चौहान रेवा तट पर शिकार करने गया है तभी वह अपनी सेना के साथ चौहान पर आक्रमण कर देता है। किंतु …

रेवा तट Read More »

error: Content is protected !!